Aaj usko Dekha shayari, kal aur aaj shayari

Aaj usko dekha shayari

Aaj usko dekha shayari

 

आज फिर उसको देखा
बीते हुआ कल याद आया
एक ख़ामोशी सी छा गयी
हलके से आखो में आंसू आया

aaj fir usko dekha
beete hua kal yaad aya
ek khamoshi si cha gayi
halke se aakho me aansu aaya

 

मुझे तू ने नहीं तेरी यादो ने रुलाया हैं
हम ने तो तुझे याद किया, लेकिन तू ने तो मुझे भुलाया हैं

mujhe tu ne nahi, teri yaado ne rulaya hai
hum ne toh tujhe yaad kiya, lekin tu toh mujhe bhulaya hai

 

Aaj man udas hai shayari

इस दिल को हर पल तेरी प्यास हैं
तू मुझ से काफी दूर हैं
शायद इसीलिए मन उदास हैं

Is dil ko her pal teri pyas hai
tu mujh se kaafi dur hai
shayad isiliye man udas hai

 

आज उनसे बात हुई
ऐसा लगा जैसे
अँधेरी रात सुबह हुई

aaj unse baat hui
aisa laga jaise
andheri raat mein subah hui

 

आज भी मई गुमनाम सड़को पर अकेला घूमता हूँ
हर कदम पर तुझे याद करके अपने आंसू छुपता हूँ

aaj bhi mai gumnam sadko per akela ghumta hu
her kadam per tujhe yaad karke apne aansu chupata hu

 

kal aur aaj shayari

कल और आज में कोई फर्क नज़र नहीं आता हैं
अगर भूलना भी चहु तो बीता हुआ कल फिर याद आता हैं

kal aur aaj mein koi fark nazar nahi aata hai
agar bhulna bhi chahu toh beeta hua kal fir yaad aata hai

 

rone de aaj shayari

रोने दे आज मुझे, दिल की भड़ास बाहर आने दे
बहुत तकलीफ छुपा कर राखी थी आज जी भर के रोने दे

rone de aaj mujhe, dil ki bhadaas baahar aane de
bahut takleef chupa kar rakhi thi aaj jee bhar ke rone de

 

बीता हुआ कल इस दिल से जाता नहीं
तेरे अलावा और कुछ नज़र आता नहीं

beeta hua kal is dil se jata nahi
tere alawa aur kuch nazar aata nahi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *