Gam Status, SMS, Images Gam bhare status

Gam status

gam status

 

दुनिया बस कहने के लिए साथ चलती हैं, हर वक़्त अकेला होने का एहसास भी दिलाती हैं

duniya bas kehne ke liye sath chalti hai, her waqt akela hone ka ehsaas bhi dilati hai

 

ज़िन्दगी जीना तो आसान हैं फिर क्यों लोग इसमें इतना मुस्किले बना देते हैं

zindagi jeena toh aasan hai fir kyo log isme itna muskhile bana dete hai

 

नफरत की आग ने मोहब्बत को जला कर राख कर दिया

nafrat ki aag ne mohabbat ko jala kar raakh kar diya

 

देखो मेरे अंदर झांक कर सिर्फ दर्द ही नज़र आएगा
शायद उस दर्द देने वाले की तस्वीर भी नज़र आएगी

dekho mere ander jhaak kar sirf dard nazar ayega
shayad us dard dene wale ki tasveed bhi nazar ayegi

gam bhare status

गम के आंसुओ से अटूट रिश्ता हो गया
जाम और मैखानो से नया रिश्ता जुड़ गया

gam ke aansuo se atut rishta ho gaya
jaam aur maikhano se naya rishta judh gaya

 

गम भरे लोग अपना दर्द ज़ाहिर नहीं करते, बस एक मुस्कराहट लेकर चलते हैं

gam bhare log apna dard zahir nahi karte, bas ek muskurahat lekar jalte hai

 

gam messages, SMS

ज़ख्म अगर ज़ालिम दुनिया देती हैं तो
एहसास भरा दर्द अपने देते हैं

zakhm agar zalim duniya deti hai toh
ehsaas bahara dard apne date hai

 

कभी किसी से, किसी भी चीज़ की कोई उम्मीद मत रखना

kabhi kisi se, kisi bhi cheez ki koi ummed mat rakhna

 

gam wale status on love

अब तो मौत से भी बत्तर हालत हो गयी हैं ज़िंदा दिल का

ab toh mout se bhi battar halat ho gayi hai zinda dil ki

 

कभी ख़ुशी कभी ग़म, यही ज़िन्दगी का एक फ़साना बन कर रह गया

kabhi khushi kabhi gam, yahi zindagi ka ek fasana ban kar reh gaya

 

gam bhare status whatsapp

हमसफ़र हमदर्द तो बनता हैं लेकिन साथ-साथ दर्द भी देता हैं

humsafar humdard toh banta hai lekin sath-sath dard bhi deta hai

 

मुझे कफ़न में ज़िंदा लपट दो, अब और मौत का इंतज़ार नहीं होता

mujhe kafan me zinda lapat do, ab aur mout ka intezaar nahi hota

 

New gam status, Quotes

शायद ख़ुशी मेरे तक़दीर-मुक्कदर में नहीं

shayad khushi mere taqdir-mukkadar me nahi

 

दफना दिया मेरे ख्वाबो को उस बेवफा ने, फिर क्यों झूठे वादे और कस्मे दिए ख्वाब देखने के

dafana diya mere khwabo ko us bewafa ne, fir kyo jhuthe aur wade diye khwaab dekhne ke

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *