Daulat ka ghamand shayari, khubsoorati per ghamand

Daulat ka ghamand shayari

दौलत के घमंड में तू अपने आप को भूल गया
धीरे-धीरे अब तो अपनों से भी दूर हो गया

daulat ke ghamand mein tu apne ap ko bhul gaya
dheere-dheere ab toh apno se bhi dur ho gaya

 

khubsurati par ghamand shayari

ये खूबसूरती और जवानी तो कुछ पल की हैं
कुछ लोग इसे ही सब कुछ समझते हैं
इतना अकड़ते हैं
ये चार दिन की खूबसूरती पर घमंड करते हैं

ye khubsurati aur jawani toh kuch pal ki hai
kuch log ise he sab kuch samajhte hai
itna akadte hai
ye char din ki khubsurati per ghaman karte hai

 

paiso ka ghamand shayari

पैसो से सिर्फ ज़रूरत पूरी होती हैं
अपने पन के एहसास की खरीदी नहीं होती

paiso se sirf zarurat puri hoti hai
apne pan ke ehsaas ki kharidi nahi hoti

 

क्या लेकर आये थे, क्या लेकर जाओगे
अकेले ही आये थे, अकेले ही चले जाओगे
जो पैदा हुए थे और मर गए
उन्ही की तरह तुम भी गुज़र जाओगे

kya lekar aaye the, kya lekar jaoge
akele he aaye the, akele he chale jaoge
jo paida hue the aur mar gaye
unhi ki tarah tum bhi guzar jaoge

 

ghamand na kar shayari

घमंड न कर ऐ इंसान
किसी और का नहीं
सिर्फ तेरा ही होगा नुक्सान

ghamand na kar ae insaan
kisi aur ka nahi
sirf tera he hoga nuksaan

 

ghamand status, quotes, messages, sms

“लेकिन कुछ लोगो के पास पैसो से ज़ादा घमंड होता हैं”

“kuch logo ke paas paiso se zada ghamand hota hai”

 

“एक दिन सब कुछ मिट जायेगा तो ये घमंड क्या चीज़ हैं”

“ek din sab kuch mit jayega toh ye ghamand kya cheez hai”

 

“इतना घमंड लेकर क्या करेगा ऐ ग़ालिब, जब की तू हे अस्थायी हैं”

“itna ghamand lekar kya karega ae galib, jab ki tu hi asthiye hai”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *