khabar mere marne ki shayari, teri khabar shayari

khabar shayari, khabar mere marne ki shayari

जब खबर मेरे मरने की आयी
वो भी आंसुओ में भीग गयी
पहले हमें अकेला किया तो
अब वो अकेली हो गयी

jab khabar mere marne ki aayi
wo bhi aansuo mein bheeg gayi
pehle hame akela kiya toh
ab wo akeli ho gayi

 

khabar nahi shayari, messages, sms

शायद खबर नहीं उसे मेरे हाल कैसा हैं
वो मेरे साथ नहीं, फिर मेरा दिल उसकी का हैं

shayad khabar nahi use mera haal kaisa hai
wo mere sath nahi, fir bhi mera dil uski ka hai

 

khabar shayari, messages, quotes

मुझे वो खत पड़ना हैं, जो तू अपने हाथो से लिखे
कुछ अपने बारे में लिखे, कुछ मेरे बारे में लिखे

mujhe wo khat padna hai, jo tu apne hatho se likhe
kuch apne bare mein likhe, kuch mere bare mein likhe

 

sad khabar shayari, sms

हर खत से कुछ न कुछ अच्छी खबर की उम्मीद होती हैं
लेकिन कुछ ऐसे भी खत होते हैं जिसे पड़ने के बाद तकलीफ होती हैं

her khat mein kuch na kuch achi khabar ki ummeed hoti hai
lekin kuch aise bhi khat hote hai jise padne ke bad takleef hoti hai

 

तेरे खत का इंतज़ार हैं
शायद इसलिए मेरा दिल बेक़रार हैं

tere khat ka intezaar hai
shayad isiliye mera dil bekarar hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *