Pyar me Kurban shayari, status on qurban shayari

Pyar me kurban shayari

Kurban shayari

 

दूरिया ख़त्म होती नहीं
फासले कम होते नहीं
बहुत दर्द छुपा हैं इस दिल में
मगर हम कभी देखते नही

duriya khatm hoti nahi
faasle kam hote nahi
bahut dard chupa hai is dil mein
magar hum kabhi dekhate nahi

 

बहुत कुछ खोया हैं हम ने ज़िन्दगी तेरे लिए
एक बार वापस आजा लौट कर मेरे लिए

bahut kuch khoya hai hum ne zindagi ke liye
ek bar wapas aaja lout kar mere liye

 

jaan kurban shayari

तेरे लिए जान भी कुर्बान करने तैयार हैं
क्या तू भी मेरा हाथ थामने तैयार हैं

tere liye jaan bhi kurbaan karne tyyar hai
kya tu bhi mera haath thaamne tyyar hai

 

dosti per jaan kurban shayari

हम ने दोस्ती में जान क़ुर्बान करना जायज़ समझा
सारी ज़िन्दगी दोस्तों के लिए गुज़र दू, इसे फ़र्ज़ समझा

hum ne dosti me jaan kurbaan karna jayaz samajha
sari zindagi dosto ke liye guzar du, ise farz samjha

 

kurbaan mohabbat shayari

लोग कहते हैं
मोहब्बत में सब कुछ जायज़ हैं
लेकिन खुद को क़ुर्बान कर देना
ये तो वसूलो के खिलाफ हैं

log kehte hai
mohabbat mein sab kuch jayaz hai
lekin khud ko kurban kar dena
ye toh wasoolo ke khilaaf hai

 

sad kurban shayari

अक्सर वही होता हैं जो हम नहीं चाहते
किसी और की दी हुई तकलीफ की वजह से
क्यों हम मुश्किल में पड़ जाते

aksar wahi hota hai jo hum nahi chahte
kisi aur ki di hui takleef ki wajah se
kyo hum mushkil mein pad jaate

 

qurbaani shayari in hindi

आज़ादी के लिए बहुत से जवाब शहीद हुए
यहाँ इश्क़ के खातिर कितने लोग क़ुर्बान हुए

aazadi ke liye bahut se jawan shaheed hue
yaha ishq ke khatir kitne log qurban hue

 

kurban sms, status, messages

“वही क़ुरबानी जायज़ हैं जो हक़ में दी जाये”

“wahi kurbani jayaz hai jo haq mein di jaye”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *