Matlabi shayari, matlabi duniya aur matlabi log shayari

matlabi shayari

matlabi log shayari

यहाँ सब चेहरे पर नकाब पहनते हैं
कहते कुछ हैं, करते कुछ और हैं

yaha sab chehre per nakaab pehnte hai
kehte kuch hai, karte kuch aur hai

 

बिना मतलब के कोई किसी पर एहसान नहीं करता
मतलब पूरा होने पर, वापस मूड कर भी नहीं देखता

bina matlabke koi kisi per ehsaan nahi karta
matlab pura hone per, wapas mud kar bhi nahi dekhta

 

तेरी इन ज़रूरतों ने मुझे ये क्या कर दिया
मतलबी मोहब्बत ने मेरा जीना हराम कर दिया

teri in zarurato ne mujhe ye kya kar diya
matlabi mohabbat ne mera jeena haraam kar diya

 

ठुकराया तू ने मेरी वफ़ा को
तड़पाया तू ने मेरे जिस्म के हर हिस्से को
शायद तेरा मतलब अब भी पूरा न हुआ तो
अलग कर दे मेरे जिस्म के हर एक हिस्से को

teheraya tu ne meri wafa ko
tadapaya tu ne mere jism ke her ek hisse ko
shayad tera matlab ab bhi pura na hua toh
alag kar de mere jism ke her ek hisse ko

 

shayari on matlabi friends

हर दोस्त मतलबी नहीं होता
लेकिन हर दोस्त हमेशा साथ भी नहीं होता

her dost matlabi nahi hota
lekin her dost hamesha sath nahi hota

 

जो दोस्त मतलबी होता हैं
वो अपना काम पूरा होने तक ही साथ होता हैं

jo dost matlabi hota hai
wo apna kaam pura hone tak he sath hota hai

 

matlabi duniya shayari

अपनी ज़रूरत पूरी करने के लिए
लोग किसी भी हद तक जा सकते हैं
अगर खुद का मक़सद पूरा न हुआ
तो ये किसी की जान भी ले सकते हैं

apni zarurat puri karne ke liye
log kisi bhi had tak jaa sakte hai
agar khud ka maksad pura na hua
toh ye kisi ki jaan bhi le sakte hai

 

उनका साथ हो न भी
साथ न होने के बराबर था
ये ज़रूरत और दिखावा था
सब कुछ एक मतलब था

unka sath ho na bhi
sath na hone ke barabar tha
ye zarurat aur dikhawa tha
sab kuch ek matlab tha

 

उनकी ज़रूरत पूरी न होने पर, मुझे दोषी करार दिया
जब ज़रूरत पूरी हो गयी, हमें ज़िन्दगी से अलग कर दिया

unki zarurat puri na hone per, mujhe doshi karar diya
jab zarurat puri ho gayi, hame zindagi se alag kar diya

 

matlabi shayari in hindi

हर कदम लोग दुसरो के जज़्बात से खेलते हैं
कुछ नहीं कहते बस दूर ठहर कर नज़ारे देखते हैं

her kadam log dusro ke jazbaat se khelte hai
kuch nahi kehte bas keh teher kar nazare dekhte hai

 

matlabi shayari image

खुद को किसी और के नज़र से मत देखना
वरना अपने आप को खुद से जुदा कर दोगे

khud ko kisi aur ke nazar se mat dekhna
varna apne ap ko khud se juda kar doge

shayari on matlabi insan

इस दुनिया से कोई कुछ भी अपने साथ नहीं ले जा सकता
पता नहीं फिर लोग मतलबी बनकर खुद को बदनाम करता हैं

is duniya se koi kuch bhi apne sath nahi le jaa sakta
pata nahi fir log matlabi bankar khud ko badnaam karta hai

 

matlabi logo ki shayari

पता नहीं यहाँ एक इंसान के कितने चेहरे होते हैं
हर एक दिन इनको पहचान ने की ज़रूरत पड़ती हैं

pata nahi yaha ek insaan ke kitne chehre hote hai
her ek din inko pehchaan ne ki zarurat padti hai

 

मतलबी लोगो की सोच भी मतलबी होती हैं
उन के लिए दुनिया में आने भी एक मतलब हैं

matlabi logo ki soch bhi matlabi hoti hai
un ke liye duniya me aane bhi ek matlab hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AliShayari.in © 2018 contact @alishayari.in@gmail.com