Mujhe galat na Samajhna shayari, bhula dena mujhe

bhula dena mujhe shayari

तेरी वजह से नींद नहीं आती मुझे
फिर भी कोई फर्क नहीं पड़ता तुझे
तू ने इतना इंतज़ार करवाया के अब तो
मौत से मोहब्बत होने लगी हैं मुझे

teri wajah se neend nahi aati mujhe
fir bhi koi fark nahi padta tuhe
tu ne itna intezaar karwaya ke ab toh
mout se mohabbat hone lagi hai mujhe

 

पहले तो कोई न समझा मुझे
अब क्यों फर्क पड़ रहा हैं तुझे
जा तू वापस अपनी ज़िन्दगी में
अब किसी से कोई लेना-देना नहीं मुझे

pehle toh koi na samjha mujhe
ab kyo fark pad raha hai tujhe
ja tu bhi wapas apni zindagi mein
ab kisi se koi lena-dena nahi mujhe

 

mujhe galat na samajhna shayari

एक गलती हुई हमसे
मुझे गलत न समझना
उस गलती की वजह से
मुझे आवारा-पागल न समझना

ek galti hui humse
mujhe galat na samjhna
us galti ki wajah se
mujhe awara-pagal na smajhna

 

mujhe maaf kardo shayari

एक एहसान करदो
मुझे माफ़ करदो
अनजाने में हुई गलती
इसे दुश्मनी मत बना लो

ek ehsaan kardo
mujhe maaf kardo
anjaane mein hui galti
ise dusmani mat bana lo

 

mujhe nafrat hai tumse shayari

मुझे नफरत हैं तुमसे और तुम्हारे गंदे इरादों से
अगर थोड़ी सी शर्म हो तो नज़रे मत मिलना मुझसे

mujhe nafrat hai tumse aur tumhare gande irado se
agar thodi si sharm ho toh nazre mat milana mujhse

 

mujhe haq nahi shayari

अगर मैं तुझे ख़ुश रखना सका तो
मुझे तुझसे प्यार करने का भी हक़ नहीं

agar mai tujhe khush rakh na saka toh
mujhe tujhse pyar karne ka bhi haq nahi

 

mujhe fark nahi padta shayari

मुझे फर्क नहीं पड़ता किसी के कुछ कहने से
क्योकि मुझे मोहब्बत तो मेरी ख़ामोशी से

mujhe fark nahi padta kisi ke kuch kehne se
kyoki mujhe mohabbat toh meri khamoshi se

bhul jao mujhe shayari

माफ़ कर दो और मुझे भूला दो
अब कुछ बचा नहीं कहने के लिए
हो सके तो भूल जाओ मुझे
बहुत सी वजह हैं मेरे पास मरने के लिए

maaf kar do aur mujhe bhul jao
ab kuch bacha nahi kehna ke liye
ho sake toh bhul jao mujhe
bahut si wajah hai mere paas marne ke liye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *