AliShayari.in

AliShayari.in is all about Shayaris

nafrat shayari full collection of Shayari on nafrat

Best list on Nafrat Shayari full collection of Shayari on nafrat, नफरत शायरी हिंदी. Read collections of nafrat Shayari, nafrat shayari 2 line, नफरत शायरी हिंदी, best nafrat shayari for girlfriend, Pyar se nafrat shayari, nafrat bhari shayari, love nafrat shayari, nafrat shayari in Hindi. english and more.

Nafrat Shayari नफरत शायरी

nafrat shayari

 

गलती प्यार से नहीं, प्यार करने वालों से होती है
गुनाह गार प्यार नहीं, प्यार करने वाले होते हैं

galti pyar se nahi, pyar karne walo se hoti hai
gunahgaar pyar nahi, pyar karne wale hote hai

 

प्यार से नफरत हो गई मुझे, तुझ से नहीं
पहले तो तुझे प्यार किया था, नफरत नहीं

pyar se nafrat ho gai mujhe, tujh se nahi
pehle toh tujhe pyar kiya tha, nafrat nahi

 

pyar se nafrat Shayari

 

प्यार ही हमारी जिंदगी थी
क्यों आप ने हाथ छोड़ा, दिल तोड़ा
और हस कर मुँह मोडा

pyar he hamari zindagi thi
kyo aap ne hath choda, dil toda,
aur hass kar muh moda

 

मोहब्बत के रास्ते पर चल पड़े थे
सोचना न था कभी ऐसा होगा
हाथ तू ने छोड़ा, नफरत मोहब्बत से कर बैठे थे

mohabbat ke raaste per chal pade the
सकहता na tha kabhi aisa hoga
hath tu ne choda, nafrat mohabbat se kar baithe

 

धोखा तू ने दिया मुझे
लेकिन नफरत प्यार से हो गयी

dhoka tu ne diya mujhe
lekin nafrat pyar se ho gayi

 

ये दुनिया ज़ालिम हैं तुझे जीने नहीं देगी
प्यार से नफरत हैं दुनिया को शायद
इसीलिए हमें कभी साथ रहने नहीं देगी

ye duniya zaalim hai tujhe jeene nahi degi
pyar se nafrat hai duniya ko shayad
isiliye hume kabhi sath rehne nahi degi

 

nafrat shayari 2 line

 

अगर नफरत भी करनी हैं तो मोहब्बत से करो
दुश्मन भी आप से प्यार कर बैठे गा

agar nafrat bhi karni hai toh mohabbat se karo
dushman bhi aap se pyar kar baithega

 

नफरत की आग में क्यों जलते हो ऐ दुनिया वालों
कभी मोहब्बत के रास्ते पर चल के तो देखो, भूल जाओगे नफरत को

nafrat ki aag me kyo jalte ho ae duniya walo
kabhi mohabbat ke raaste per chal ke toh dekho, bhool jaaoge nafrat ko

 

Nafrat Shayari in english

 

क्यों इतनी नफरत भरी हैं तेरे दिल में
इसीलिए तो तू रहता हैं हमेशा मुश्किल में

kyo itni nafrat bhari hai tere dil me
isiliye toh tu rehta hai hamesha mushkil me

 

सच ही कहते थे लोग नफरत की कोई मंज़िल नहीं
हमें भी अब पता चला
जब की हम इस रास्ते पर कब का भटक गए

sach he kehte the log nafrat ki koi manzil nahi
hume bhi ab pata chala
jab ki hum is raaste per kab ka bhatak gaye

 

nafrat shayari lines

 

नफरत ज़हर से कुछ कम नहीं
दोनों ही जिंदगी तबाह कर देती हैं

nafrat zaher se kuch kam nahi
dono he zindagi tabah kar deti hai

 

तू न मिली तो नफरत को अपनी मंज़िल बना लिया
लेकिन नफरत का रास्ता कभी ख़त्म क्यों नहीं होता
अब मंज़िल न मिली इसीलिए मौत को अपना लिया

tu na mili toh nafrat ko apni manzil bana liya
lekin nafrat ka raasta kahbi khatm nahi hota
ab manzil na mili isiliye mout ko apna liye

 

नफरत की दुनिया में जीने वालों
प्यार करने वालों से सीखो
फिर तुम भी नफरत से मोहब्बत कर लो गे

nafrat ki duniya me jeene walo
pyar karne walo se seekho
fir tum bhi nafrat se mohabbat kar lo ge

 

Nafrat Shayari sms

 

जाने क्यों लोग अपने अंदर नफरत की आग जलाये बैठे हैं
उन्हें प्यार का पाठ पढ़ाते-पढ़ाते हम भी नफरत का साथ दे बैठे हैं

jaane kyo log apne ander nafrat ki aag jalaye baithae hai
unhe pyar ka paath padahate-padahate hum bhi nafrat ka sath de baithae hai

 

गलत जिंदगी नहीं, गलत लोग हैं
नफरत भरी दुनिया नहीं, नफरत भरे लोग हैं

galat zindagi nahi, galat log hai
nafrat bhari duniya nahi, nafrat bhare log hai

 

nafrat shayari for girlfriend

 

नफरत तुझ से नहीं प्यार से की थी
पता नहीं चला कब नफरत से भी प्यार हो गया

nafrat tujh se nahi pyar se ki thi
pata nahi chala kab nafrat se bhi pyar ho gaya

 

छोड़ दिया मैं ने नफरत का साथ
फिर क्यों तुम ने पकड़ लिया नफरत का हाथ

chod diya maine nafrat ka sath
fir kyo tum ne pakad liya nafrat ka hath

 

nafrat shayari

 

सोच-समझ कर नफरत करना, जिंदगी की गाडी कही रुक न जाये
और तुम्हारी ये नफरत कही इसकी वजह न बन जाये

soch-samaj kar nafrat karna, zindagi ki gaadi kahi ruk na jaye
aur tumhari ye nafrat kahi iski wajah na ban jaye

 

इस तरह नफरत से न देखो मुझे डर लगता हैं
कही भूल न जाए तुझे ये दिल
इसीलिए हमेशा तेरे बारे में सोचता हैं

is tarah nafrat se na dekho mujhe dar lagta hai
kahi bhool na jaye tujhe ye dil
isiliye hamesha tere baare me sochta hai

 

नफरत शायरी हिंदी

 

प्यार करना आता नहीं
खुद को आंशिक कहते हो
नफरत तो अच्छे से करना आता हैं
फिर क्यों खुद को दुश्मन नहीं कहते हो

pyar karne aata nahi
khud ko aashiq kehte ho
nafrat toh acche se karna aata hai
fir kyo khud ko dusman nahi kehte ho

 

प्यार किया तुझसे
एक खता हो गयी मुझसे
अब सिर्फ जी रहे हैं नफरत से

pyar kiya tujhse
ek khata ho gayi mujhse
ab sirf jee rahe hai nafrat se

 

nafrat shayari in hindi

 

दो पल की जिंदगी और इतनी सारी नफरत
छोड़ दो इसे, वरना सब को पता चल जाएगी तेरी फ़ितरत

do pal ki zindagi aur itni saari nafrat
chod do ise, varna sab ko pata chal jayegi teri fitrat

 

नफरत से भी नफरत न करो ऐ दुनिया वालों
सब को ले डूबेगी ये नफरत की आग
अभी वक्त हैं अपने आप को इससे बचा लो

nafrat se bhi nafrat na karo ae duniya walo
sab ko le doobegi ye nafrat ki aag
abhi waqt hai apne aap ko isse bacha lo

 

nafrat bhari shayari

 

इस दिल में इतनी नफरत भरी हैं कैसे बताऊ
शायद इसीलिए मैं
हर पल अपनी ही नफरत के आग में जलता हूं

is dil me itni nafrat bhari hai kaise batau
shayad isiliye mai
her pal apni he nafrat ki aag me jalta hu

 

नफरत की आग ने मोहब्बत के घर को जला दिया
मेरे प्यार का घर अभी पूरा बना भी न था
इस नफरत ने सब कुछ खत्म कर दिया

nafrat ki aag ne mohabbat ke ghar ko jala diya
mere pyar ka ghar abhi pura bana bhi na tha
is nafrat ne sab kuch khatm kar diya
-by Nafrat Shayari

Share this on:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × three =

AliShayari.in © 2017 Frontier Theme