AliShayari.in

AliShayari.in is all about Shayaris

Ramadan Shayari, Eid Mubarak Shayari, Ramzan Mubarak

It’s the right time to read the best collections of ramadan shayari in hindi with beautiful words on Allah, Ramzan mubarak,status, Quotes and Images. roze and lot more. For all the followers of Islam Ramadan shayari(Eid) is the most and the biggest festival than anything else.

<>Ramadan Shayari, status, Quotes and Images

ramadan shyari

ये सिर्फ रोज़े रहने का नहीं
इबादत का भी महीना हैं
साल का सब से खूबसूरत
रमज़ान का महीना हैं

ye sirf roze rehna ka nahi
ibadad ka bhi mahina hai
saal ka sab se khubsurat
ramzan ka mahina hai

 

बरकत का महीना हैं
सब को दुआ में याद रखना हैं
दुनिया के बाद जन्नत मिले
ऐसी इबादत करना हैं

barkat ka mahina hai
sabko dua me yaad rakhna hai
duniya ke baad jannat mile
aisi ibadat karna hai

 

हैं मुबारक महीना
अब इसे मत गँवाना
दुनिया की वजह से भटक न जाना
बस हाथ उठा कर अल्लाह से माँगना

hai mubarak mahina
ab ise mat gawana
duniya ki wajah se bhatak na jana
bas hath utha kar allah se maangna

 

<2>ramzan shayari in hindi<2>

ramadan shayari

 

पाक जिंदगी जीना आज से
हर बात करना हैं ईमान से
दुनिया क्या देगी तुझे
बस उम्मीद रखना हैं अल्लाह से

paak zindagi jeena aaj se
her baat karna hai imaan se
duniya kya degi tujhe
bas ummeed rakhna hai allah se

 

ये बरकतो वाला महीना हैं
हमें तो बस नेकिया कमाना हैं

ye barkato wala mahina hai
hame toh bas nekiya kamana hai

 

<3>ramadan mubarak shayari<3>

 

सब के जिंदगी में आज से खुशियों की शुरवात हो
हर शक्स जो ला-इ-लाहा पड़े उसे रमज़ान मुबारक हो

sab ke zindagi me aaj se khushiyo ki shurwat ho
her shaks jo la-e-laha pade use ramadan mubarak ho

 

ramadan eid mubarak shayari

sehri shayari

 

वो सुबह क्या सुबह हैं
जहा सहरी नाम का तोफा हैं

wo subah kya subah hai
jaha sehri naam ka tohfa hai

 

हमारी जिंदगी में कितना नूर आया हैं
ये बरकत, रमज़ान का महीना लाया हैं

hamari zindagi me kitna noor aya hai
ye barkat, ramzan ka mahina laya hai

 

<4>ramzan ki shero shayari<4>

 

रमदान के माहौल में डूब कर इबादत करने का जी करता हैं
जो गलतिया अब तक हुई हैं हम से उसकी माफ़ी मांगने का दिल करता हैं

ramadan ke mahol me doob kar ibadad karne ka jee karta hai
jo galtiya ab tak hui hai hum se uski maafi maang ne ka dil karta hai

 

जो दूर हैं उनसे मिलने का मन करता हैं, क्योकि
ये रमदान का माहौल दूरियों को नज़दीकियों में बदल देता हैं

jo dur hai unse milne ka man karta hai, kyoki
ye ramadan ka mahol duriyo ko nasdekiyo me badal deta hai

 

रमज़ान के महीने में एक अलग सा एहसास होता हैं
सब कुछ पाक लगता हैं, क्योकि नज़र्या पाक बन जाता हैं

ramadan ke mahine me ek alag sa ehsaas hota hai
sab kuch pak lagta hai, kyoki nazariya pak ban jata hai

 

हम प्यारे नबी की उम्मत हैं
इससे जादा दुनिया में कौन खुशकिस्मत हैं

hum pyare nabi ki ummet hai
isse zada duniya me koun khush naseeb hai

 

<5>ramzan roza shayari<5>

 

माहे रमदान का महीना आया
साथ में बरकत भी ले आया
शैतानो से जीतने का
एक और मौका फिर से लाया

maahe ramadan ka mahina aaya
sath me barkat bhi le aya
shaitano se jeetne ka
ek aur mouka fir se aya

 

काश ये रोज़े का महीना ख़त्म न होता
कभी बरकत की कमी न होती

kaash ye roze ka mahina khatm na hota
kabhi barkato ki kami na hoti

 

<6>ramadan kareem shayari<6>

 

वो चाँद का नज़र आना
वो खुशियों का माहौल होना
खुदा से दुआ करूंगा के कराना
रमज़ान का इंतजार ज़ादा मत

wo chand ka nazar aana
wo khushiyo ka mahola hona
khuda se dua karunga ke
ramzan ka intezaar zada mat karana

 

कितना खूबसूरत महीना हैं ये रमदान
जो हमें मुकम्मल इस्लाम पर चलने का अभ्यास कराता हैं

kitna khubsurat mahina hai ye ramadan
jo hame mukammal islam per chalne ka abyas karata hai

 

<7>chand raat mubarak ramadan shayari<7>

 

आसमान में चाँद हो और मेरे पेशानी पर खुदा का नाम हो
सब से पहले आप सब को चाँद मुबारक हो

aasmaan me chand ho aur mere peshani per khuda ka naam ho
sab se pehle aap sab ko chand mubarak ho

 

चाँद नज़र आया
जिंदगी में खुशिया ले आया
इतना खुशनुमा मौसम
हर एक बन्दे को पसंद आया

chand nazar aaya
zindagi me khushiyo le aya
itna khubsurat mousam
her ek bande ko pasand aaya

 

alvida ramzan alvida jumma shayari

 

फिर एक बरस का इंतजार हम से नहीं होता
अगर रमज़ान पूरे बरस होता तो कितना खूबसूरत होता

fir ek baras ka intezaar hum se nahi hota
agar ramzan pure baras hota toh kitna khubsurat hota

 

तकलीफ होती हैं अलविदा कहने को
दिल नहीं कहता अलविदा कहने को

takleef hoti hai alvida kehne ko
dil nahi kehta alvida kehne ko

 

प्यारे नबी ने अपने तरीको से जन्नत का रास्ता बताया हैं
हमें बस उस रास्ते पर चलना हैं और जन्नत में दाखिल होना हैं

pyare nabi ne apne tariko se jannat ka raasta banaya hai
hame bas us raaste per chalna hai aur jannat me daakhil hona hai

 

अब बस रोज़े रहना हैं
नबी के रास्ते पर चलना हैं
अल्लाह की इबादद करना हैं
रात-दिन खुदा से माफ़ी मांग न हैं

ab bs roze rehna hai
nabi ke raaste per chalna hai
allah ki ibadat karna hai
raat-din khuda se maafi maang na hai

 

Ramadan Shayari on Islam

 

अब ऐसी इबादत करना हैं
के जिंदगी में कभी इस्लाम से न हटे

ab aisi ibadat karna hai
ke zindagi me kabhi islam se na hateh

ramadan shayari

 

नहीं हैं कोई खुदा सिवाय अल्लाह के
अल्लाह ही एक लौता खुदा हैं सब के लिए

nahi hai koi khuda sewaye allah ke
allah he ek louta khuda hai sab ke liye

Ye Ramadan ka Mauka ise mat Gawana Her pal naki mile isi ibadat karna . Bado ki Izzat karna aur choto ka khayal karna. Kisi se dushmani mat rakhna bas mhobbat bhari dosti nibhana.

Ramadan Status

दुआ की गुज़ारिश रमजान के मौके पर
dua ki guzarish ramazan ke mouke per

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AliShayari.in © 2018