Samandar Shayari, Samandar ke kinare

sad samandar shayari

samandar shayari

 

आंसुओ के समंदर में, मोहब्बत के पन्ने भीग गए
बीच समंदर में नहीं, हम तो किनारे पर ही डूब गए

aansuo ke samandar mein, mohabbat ke panne bheeg gaye
beech samandar mein nahi, hum toh kianare per he doob gaye

 

किनारा पास था, फिर भी मेरी कस्ती डूब गई
जहा पानी कम था वही मेरी कस्ती डूब गई

kinara paas tha, fir bhi meri kasti doob gayi
jaha pani kam tha wahi meri kasti doob gayi

 

love samandar shayari

इश्क़ के बाजार में आशिक़ो का दिल समंदर से भी गहरा हैं
हर एक आशिक़ किसी के प्यार में डूबा हुआ था, वाह क्या नज़ारा था

ishq ke baazar mein aashiqo ka dil samandar se bhi gehra tha
her ek aashiq kisi ke pyar mein dooba hua tha, waah kya nazaraa tha

 

samandar ke kinare shayari

कस्तियाँ किनारो पर नहीं डूबती
इसी चलाने वाला डूब जाता हैं

kastiya kinaro per nahi doobti
ise chalane wala doob jaata hai

 

समंदर के किनारे कही कस्तियाँ टहरती हैं
लेकिन कुछ कस्तियाँ पानी के बहाओ में खींची चली जाती हैं

samandar ke kinare, kahi kastiya teherti hai
lekin kuch kastiya paani ke bahao me khichi chali jaati hai

 

ishq ka samandar shayari

ये इश्क़ के समंदर अगर एक बार डूब गए तो बचना मुश्किल हैं
अगर बच भी गए तो इश्क़ के बिना जीना काफी मुश्किल हैं

ye ishq ke samandar mein ek bar doob gaye toh bachna mushkil hai
agar bach bhi gaye toh ishq ke bina jeena kaafi mushkil hai

 

khamosh samandar shayari

खामोश समंदर के भीतर बड़ी हलचल होती हैं
ये हलचल सिर्फ ख़ामोशी में ही सुनाई देती हैं

khamosh samandar ke bhitar badi hulchal hoti hai
ye hulchal sirf khamoshi me he sunai deti hai

 

samandar ka pani shayari

समंदर का पानी जितना नाक़ीम था
तुमसे मिलना मेरे लिए उतना ही मुश्किल था

samandar ka paani jitna namkeen tha
tumse milna mere liye utna he mushkil tha

 

samandar ki gehrai shayari

समंदर की गहराई से गहरा हैं मेरा प्यार
फिर क्यों हैं तुझे मुझ से ऐतबार
तोड़ दे सब दुनिया के बंधन और
क़ुबूल करले मुझे, अब होता नहीं मुझसे इंतज़ार

samandar ki gehrai se gehra hai mera pyar
fir kya hai tujhe mujh per aitabaar
tod de sab duniya ke bandhan aur
qubool karle mujhe, ab hota nahi mujhse intezaar

 

dard ka samandar shayari

खुद अपने हातो से दर्द का समंदर बना लिया हम ने
जब सरे आम भरी महफ़िल में दिल तोड़ दिया उस बेवफा ने

khud apne haato se dard ka samandar bana liya hum ne
jab sare aam bhari mehfil me dil tod diya us bewafa ne

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *