Saza shayari on pyar karne ki, mohabbat, galti, ishq, zindagi - AliShayari.in

AliShayari.in

AliShayari.in is all about Shayaris

Saza shayari on pyar karne ki, mohabbat, galti, ishq, zindagi

Saza shayari. Read the best lines in hindi on Saza on pyar, galti, ishq, mohabbat, pyar karne ki saza shayari in 2 lines in hindi fond.  saza means punishment. Punishment can be for any reason or mistake. Explore the page and read the lines which suites best for the situation.

Saza Shayari

 

गलती भी हम ने गलती से की हैं
झूठों की दुनिया में ईमानदारी की जिंदगी जी हैं

galti bhi hum ne galti se ki hai
jhooto ki duniya me imaanari ki zindagi jee hai

 

सजा के नाम पर जिंदगी मत मांग लेना
क्योंकि इसे किसी और के नाम कर दी हैं मैंने

saza ke naam per zindagi mat maang lena
kyoki ise kisi aur ke naam kar di hai maine

 

galti ki saza shayari

 

गलती की सजा भी मोहब्बत से दो
गलती को मेटा दो जिंदगी को मोहब्बत का नाम दो

galti ki saza bhi mohabbat se do
galti ko meta do zindagi ko mohabbat ka naam do

 

saza e ishq shayari

 

इश्क़ की सजा इस दिल को मत देना
चाहे तो मेरी जान ले लेना
लेकिन इस दिल को माफ़ कर देना
क्योंकि इश्क़ के बिना मुश्किल हैं इस दिल का जीना

ishq ki saza is dil ko mat dena
chahe toh meri jaan le lena
lekin is dil ko maaf kar dena
kyoki ishq ke bina mushkil hia is dil ka jeena

 

इश्क़ में दिल का सौदा होता हैं ईमान का नहीं
जिंदगी में चीज़ का सौदा होता हैं, जमीर का नहीं

ishq me dil ka souda hota hai imaan ka nahi
zindagi me cheez ka souda hota hai, zameer ka nahi

saza 2 line shayari

 

दर्द सह लेंगे हम, तड़प कर जी लेंगे हम
बीच सफर में क्यों छोड़ कर चली गयी तुम

dard seh lenge hum, tadap ke jee lenge hum
bech safar me kyo chod kar chali gayi tum

 

pyar karne ki saza shayari

 

प्यार की सजा भी किस्मत वालो को ही नसीब होता हैं
लेकिन प्यार में धोखा सिर्फ बदनसीबों के साथ होता हैं

pyar ki saza bhi kismat walo ko he naseeb hota hai
lekin pyar me dhokha sirf badnaseebo ke sath hota hai

 

सजा तो गुनहगार को मिलती हैं
सच्चा प्यार करने वालों को नहीं
हम ने तो प्यार किया हैं
कोई गुनाह नहीं

saza toh gunahgar ko milti hai
saccha pyar karne walo ko nahi
hum ne toh pyar kiya hai
koi gunah nahi

 

प्यार की सजा कुछ इस तरह मिली
जीना सके उनके बिना
मरना सके उन के लिए
कुछ ऐसी सजा मिली

pyar ki saza kuch is tarah mili
jeena sake unke bina
marna sake un ke liye
kuch aisi saza mili

 

ishq shayari saza

 

गुनाह करो या न करो
इश्क़ में सजा तो पक्की हैं

gunah karo ya na karo
ishq me saza toh pakki hai

 

saza do mujhe shayari

 

मुझे सजा दो

माफ़ी मत दो
गुनाह किया हैं मैं ने
चाहे तो मुझे मार दो

mujhe saza do
maafi mat do
gunah kiya hai mai ne
chahe toh mujhe maar do

 

हर सजा पाने के लिए तैयार हूँ
मेरा गुनाह इतना बड़ा हैं के
मैं मरने के लिए भी तैयार हूँ

her saza paane ke liye tyyar hu
mera gunah itna bada hai ke
mai marne ke liye bhi tyyar hu

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AliShayari.in © 2018