us se kehna shayari, us bewafa ki yaad shayari

us se kehna shayari

us se kehna shayari

 

उस से कहना की हम ने बहुत इंतज़ार किया
लेकिन तेरे इस लम्बे इंतज़ार मुझे मजबूर किया
बहुत कोशिश की मैं ने भी जीने की
मौत को भी मुझ पर रेहम आया, इसलिए मौत ने मुझे गले लगाया

us se kehna ki hum ne bahut intezaar kiya
lekin tere is lambe intezaar ne mujhe majboor kiya
bahut koshish ki mai ne bhi jeene ki
mout ko bhi mujh per reham aya, isiliye mout ne mujhe gale lagaya

 

us bewafa ki yaad shayari

उस बेवफा की याद इस दिल से जाती नहीं
और वो बेवफा वापस मेरी ज़िन्दगी में आती नहीं

us bewafa ki yaad is dil se jati nahi
aur wo bewafa wapas meri zindagi me aati nahi

 

दुनिया से कोई गिला नहीं मुझे
ज़िन्दगी से बभी कोई शिकवा नहीं मुझे
जाने दो मुझे, मैं जाना चाहता हूँ
अगर मैं मर भी गया तो कोई फर्क नहीं पड़ेगा उसे

duniya se koi gila nahi mujhe
zindagi se bhi koi shikwa nahi mujhe
jaane do mujhe, mai jana chahta hu
agar mai marr bhi gaya to koi fark nahi padega use

 

us ki yaad shayari and, us se kehna shayari

उस की याद मुझे हर वक़्त सताती है
अगर भूलने की कोशिश करू तोह
और भी ज़ादा याद आती है
उसकी हर एक याद मेरे आखो में आंसू दे जाती हैं

us ki yaad mujhe her waqt satati hai
agar bhul ki koshish karu to
aur bhi zada yaad aati hai
uski her ek yaad mere aakho me aansu de jati hai

 

khone ka dard shayari

टूटे दिल से पूछो दर्द क्या होता हैं
वो कहेगा छोटी उम्र से ही मौत का इंतज़ार होता हैं

tute hue dil se pucho dard kya hota hai
wo kahega choti umr se mout ka intezaar hota hai

 

पाना और खोना तो ज़िन्दगी का वसूल हैं
एक ही चीज़ के पीछे ज़िन्दगी गवा देना बेफज़ूल हैं

paana aur khona to zindagi ka wasool hai
ek he cheez ke peche zindagi gawa dena befosool hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *