Zulm Shayari ,status on tabahi zulm ki shayari

tabahi zulm ki shayari

zulm shayari

 

धोखे की दुनिया में इन्साफ क्यों ढूंडता हैं
यहाँ इन्साफ भी धोखे से ही मिलता हैं

dhokhe ki duniya me insaaf kyo dhoodta hai
yaha insaaf bhi dhokhe se he milta hai

 

ये ज़ुल्म एक दिन सब को तबाह कर देगा
मोहब्बत भरे दिलो में भी नफरत भर देगा

ye zulm ek din sab ko tabah kar dega
mohabbat bhare dilo me bhi nafrat bhar dega

 

khilaf shayari

किसी के खिलाफ होने का मतलब हैं
अपनी ही जान से दुश्मनी बना लेना

kisi ke khilaf hone ka matlab hai
apni he jaan se dushmani bana lena

 

tabahi zulm ki movie shayari in hindi

ज़ुल्म तो कल भी होता था, आज भी हो रहा हैं, कल शायद यही हो

zulm toh kal bhi hota tha, aaj bhi ho raha hai, kal shayad yahi hoga

 

insaaf shayari in hindi

आज की दुनिया में तो इन्साफ का मतलब हैं धोखा
पता नहीं क्यों अपनों ने ही अपनों को इस धोखे से नहीं रोका

aaj ki duniya me toh insaaf ka matlab hai dhokha
pata nahi kyo apno ne he apno ko is dhokhe se nahi roka

 

zulm status

कमज़ोरों पर ज़ुल्म करना मतलब खुद की कमज़ोरी बताना

kamzoro per zulm karna matlab khud ki kamzori batana

 

आज पता चला के खून के रिश्ते में भी नफरत होती हैं

aaj pata chala ke khoon ke rishte me bhi nafrat hoti hai

 

zulm ki hukumat shayari

ज़ुल्म की हुकूमत इस दुनिया पर छाई हैं
इसीलिए अवाम में रुस्वाई हैं

zulm ki hukumat is duniya per chaee hai
isiliye awaam me ruswai hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *